CJI चंद्रचूड़ ने छह सौ वकीलों को दिया लेटर ।

भारत के चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ को 600 वकीलों ने मिलकर एक खत लिखा है । जिसमे दावा किया गया है कि न्यायपालिका बहुत बड़ा खतरा है । खत में उन्होंने खुलासा किया है कि vested interest group जो कि अपने स्वार्थ के लिए काम करने वाले लोगों का समूह है और उसपर आरोप है कि वो न्यायपालिका को प्रभावित कर रहे हैं, पॉलिटिकल प्रेशर बनाने काम कर रहे हैं और बेंच फिक्सिंग को भी बढ़ावा दे रहे हैं ।

वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे और पिंकी आनंद सहित लगभग 600 वकीलों ने खत में न्यायपालिका को प्रभावित हो रही है इस इस बात को लेकर चिंता व्यक्त की है । चलिए आपको बताते हैं कि खत में क्या लिखा है ?

कुछ प्वाइंट इस तरह से हैं :

-ग्रुप वर्तमान चल रही को बदनाम करने और अदालतों में जनता के विश्वास को कम करने के लिए न्यायपालिका के बारे में झूठी बातें प्रचारित कर रहा है।

-‘ग्रुप’ राजनेताओं और भ्रष्टाचार के आरोपों से जुड़े हुए मामलों में प्रेशर बनाने की रणनीति अपना रहा है। राजनीतिक एजेंडे के आधार पर अदालत के फैसलों की आलोचना या प्रशंसा की जाती है ।

-यह चिंताजनक है कि कुछ वकील दिन में राजनेताओं का बचाव करते हैं और रात में मीडिया के माध्यम से न्यायाधीशों को प्रभावित करने की कोशिश करते हैं।

– समूह कथित तौर पर बेंचों की मरम्मत कर रहा है। इससे लोकतांत्रिक ढांचे और न्यायिक प्रक्रियाओं में भरोसे को खतरा है।’

-राजनेता किसी पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हैं और फिर अदालत में उसका बचाव करते हैं। यदि कोर्ट का फैसला उनके पक्ष में नहीं आता तो वे तुरंत कोर्ट के भीतर और मीडिया के माध्यम से कोर्ट की आलोचना करते हैं। यह एक राजनीतिक पुनर्विचार है.

-कुछ “तत्व” न्यायाधीशों को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे हैं और सोशल मीडिया पर झूठ फैलाकर उन्हें अपने मामलों को एक निश्चित तरीके से तय करने के लिए मजबूर कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *