कमाई से ज्यादा खर्च करने वाले सिपाही ने करवाई BSP नेता की हत्या

आपको बता दें की कानपूर के एक सिपाही के पास करोड़ों की जायदाद मिली है , सूत्रों से जानकारी मिली है की सिपाही मिर्जापुर के भैंसा गांव का रहने वाला है। और उसे अभी नौकरी करते हुए ग्यारह साल ही हुए हैं।

क्या है मामला

इसका नाम बसपा नेता कि हत्या मामले को लेकर 2020 में सामने आया था । जिसके बाद उसे बर्खास्त कर जेल भेज दिया गया। साल 2019 में रमाकांत पांडेय नाम के शख्स ने चेकरि जगह में तैनात सिपाही के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी। उस पर आरोप यह था की उसके पास आय से ज्यादा सम्पत्ति है , जिसके बाद इंस्पेक्टर चतुर सिंह को इन्वेस्टीगेशन का जिम्मा सौंपा गया और भ्र्ष्टाचारण निवारण इकाई ने मामले के तह तक जाने का काम शुरू कर दिया।
जिस समय यह जाँच चल रही थी उस समय सिपाही का ट्रांसफर उन्नाव कर दिया गया था जाँच चार साल तक चली जिसमे उसने अपनी ग्यारह साल कि नौकरी में पांच करोड़ ग्यारह लाख की इनकम बताई लेकिन खर्च आठ करोड़ के आस पास बताया जिससे पता चला कि उसके खर्च में तीन करोड़ का अंतर् पड़ रहा है। मामले में जांच से पता चला कि सिपाही अवैध तरीके कमाई कर रहा है और इसका जरिया था की वह बिल्डरो के साथ जमीन का सौदा कर रहा है। और उनके साथ मिलकर कई बिल्डिंग भी बना रहा था। खुद भी एक करोड़ का बंगला इसके साथ कई सरे गाड़ियां उसने खरीदी थी। जब जाँच टीम उसके घर पहुंची तो उसने दरवाजा खोलने से मना कर दिया।

Read More : Click Here

BSP नेता पिंटू सेंगर कि हत्या जून 2020 को कर दी थी , कहा गया की पिंटू कि हत्या सिपाही ने सुपारी देकर करवाई है जिसके बाद मामले की जाँच हुई और आरोपी को जेल भेज दिया गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *