मोदी सरकार पर 300 की रिश्वत देने का इल्जाम लगाने वाले सत्यपाल मालिक पर CBI की रेड

मोदी सरकार पर 300 की रिश्वत देने का इल्जाम लगाने वाले सत्यपाल मालिक पर CBI की रेड

ताजा खबर मैं आपको बता दे, सत्यपाल के घर और ऑफिस में सीबीआई की रेड पड़ चुकी है । जम्मू कश्मीर में किलो हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट के लिए आवंटित की गई 2200 करोड़ की संपत्ति कथित तौर पर भ्रष्टाचार के केस में मालिक से जुड़ी हुई खबरें आयी जिस बजह से जगह-जगह पर सीबीआई की छापेमारी चल रही है।

आपको बताते हैं क्या है पूरी खबर

मलिक साल 2018 के अगस्त से लेकर के 2019 के अक्टूबर तक जम्मू कश्मीर के गवर्नर रहे। जब वे वहां पर तैनात थे इस कार्यकाल में 2019 में पठानकोट पर हमला हुआ। इसी साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भी 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 जम्मू कश्मीर से हटा दिया गया। उनको जम्मू कश्मीर के राज्यपाल पद से हटा दिया गया तो वह अपने बयानों में बीजेपी पर बार-बार गंभीर आरोप लगाते गए।

किस-किस पर लगाए आरोप

एक मीडिया संस्थान द वायर को इंटरव्यू के समय भी उन्होंने मोदी पर बहुत गंभीर आरोप लगाए मलिक ने इंटरव्यू में दावा किया कि वह पुलवामा में सीआरपीएफ पर हमला हमारे सिस्टम और खासकर गृह मंत्रालय की लापरवाही के कारण हुआ।

उन्होंने इसके साथ एक आप तत्कालीन गृह मंत्री राजनाथ सिंह पर भी लगाया कि जब उन्होंने सीआरपीएफ जवानों को ले जाने के लिए विमान की मांग की थी तो उसको गृह मंत्रालय द्वारा ठुकरा दिया गया था। और साथ ही प्रधानमंत्री के लिए कहा कि जिस रास्ते से विमान को जाना था वहां पर सैनिटाइजेशन प्रभावी ढंग से नहीं किया गया था और उन्होंने यही भी बोला कि प्रधानमंत्री ने उनको इस मामले में चुप रहने के लिए कहा था

मलिक ने 2023 में हुई हरियाणा में हिंसा को लेकर भी बीजेपी पर बहुत आरोप लगाए उन्होंने कहा कि यह हिंसा अनायास नहीं थी, बल्कि सांप्रदायिक भेदभाव पैदा करने के लिए 7 से 8 अलग-अलग जगह पर व्यवस्थित ढंग से हमले करवाए गए थे। और इसके साथ एक आप यह भी लगाया कि मोदी ने कहा है कि जब जम्मू कश्मीर के लोग वोट दें तुम्हें पुलवामा को याद रखें इसके लिए मोदी पुलवामा की त्रासदी को अपने फायदे के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। इसे साथ उन्होंने पीएम मोदी को घमंडी बताया, और कहा कि जब वे मेघालय के गवर्नर थे उसे समय उन्होंने किसान विरोध प्रदर्शन पर चर्चा की तो 5 मिनट में ही उनकी और मोदी की लड़ाई हो गई।

Read More: Click Here

रिश्वतखोरी करने की गयी कोशिश

इससे पहले सत्यपाल मलिक कई बार अपने बयानों के कारण चर्चा में रह चुके हैं इससे पहले भी उन्होंने अक्टूबर 2021 को राजस्थान के कार्यक्रम में इस तरह का ही बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि जब वह जम्मू कश्मीर में बतौर गवर्नर तेनाते तो उनको दो फाइलों पर साइन करने के बदले में 300 करोड रुपए का ऑफर दिया था। उन्होंने खुलासा किया की सचिवों ने उनको यह जानकारी दी की एक फाइल सेंड करने का डेढ़ सौ करोड़ रुपए मिलेगा और दावा किया कि अगर फाइल साइन नहीं किया तो उन्होंने सचिन को कहा था कि वह पांच जोड़ी कुर्ता पजामा लेकर आए थे और केवल वही लेकर वापस जाएंगे।इस गंभीर आरोप पर सीबीआई ने जगह-जगह पर छापेमारी की और FIR दर्ज की और मालिक को अपने दफ्तर भी बुलाया था।

क्या कहा अमित शाह ने

दूसरी तरफ गृह मंत्री अमित शाह का भी जवाब आ चुका है उन्होंने कहा मालिक जो भी बोल रहे हैं वह राज्यपाल रहते हुए क्यों नहीं बोला गया। और ऐसा नहीं है कि अगर कोई उनकी सरकार के खिलाफ सवाल उठाए तो सरकारी एजेंसियां उनके खिलाफ छापेमारी करती है अगर मलिक के बयान पर कुछ सामने आया है तभी उनको बुलाया गया है यह पूरी तरह से सच नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *