सरकार ने किया ट्रैफिक जाम से बचने का इंतजाम

किसान आंदोलन को दिल्ली में एंट्री करने से पुलिस डिपार्टमेंट काफी मश्कत कर रहा है। इसी बीच बीच किसानो और पुलिस के बीच में हो रहे झड़प के बारे में भी खबरे आ रही है। फरवरी 13 को पुलिस ने किसानो को शांत करने के लिए आंसू गैस के गोले फेंके, दिल्ली के बॉर्डर पर खूब हड़कंप मचा रहा। भरी पथराव हुआ , इसके साथ किसान शम्भु बॉर्डर से दिल्ली में एंट्री करने की कोशिश कर रहे थे। और खबर ये भी की पुलिस ने रबर की गोलियां भी चलाई हैं, और अर्धसैनिक बल के जवानो ने किसानो को हिदायत दी है कि वह हरियाणा की सीमा को पार न करें पर किसान भी अपनी जिद्द पर अड़े हैं । आज यानि 14 फरवरी को दिल्ली में एंट्री चाहते हैं।

किसान इतनी भीड़ के साथ जा रहे हैं कि पुलिस ने पांच प्रमुख रास्तो को पूरी तरह से सील कर दिया है। यह रस्ते हरियाणा , उत्तर प्रदेश से सटे हुए हैं। आपको बता दें सिंधु , टीकरी और झरोदा में हरियाणा के साथ दिल्ली की सीमायें सील की हुई हैं। अधिकारीयों ने पहले से ही कंक्रीट , सीमेंटेड बेरिकेड लगा रखे हैं।

Read More: Click Here

दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस ने लोनी , औचंदी , जोति , पियाउ के ट्रांजिट पॉइंट्स से दिल्ली से बहार जाने की एडवाइस दी है।ट्रैफिक पुलिस ने दिल्ली , नॉएडा में किसी भी परेशानी की हालत के लिए यह नंबर दिया है 1095, 9971009001 और 964332290।

कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि सरकार किसानो के मुद्दों पर बात करने को तैयार है और चंडीगढ़ में भी इस बारे में बात हुई, उन्होंने कहा कि सरकार पैनल बनाने के लिए तैयार है। केंद्रीय सुचना एवं प्रसारण और युअ एवं खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा कि सरकार चर्चा करना चाह रही थी परन्तु लेकिन किसान बीच में से ही उठकर चले गए। चंडीगढ़ में हुयी बैठक के बाद किसान मोर्चा के संयोजक जगजीत डडवाल ने कहा कि सरकार के पास किसानो के लिए कुछ भी नहीं बचा है , वह हमारा समय बर्बाद कर रहे हैं। किसानो की मांग है कि उन्हें फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानून गारंटी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *